Events

LIVE तर्पण उज्जैन सिद्धवट से

PITRU PAKSH MEDITATION
(Sep 01 - Sep 17) 8:30 pm IST

GANESH UTSAV
(Aug 22 - Aug 31) 8:30 pm IST

गणपति बप्पा मोरिया

इस साल covid19 महामारी की वजह से गणपति उत्सव शायद उस प्रकार ना मनाया जा सके जैसे कि हर हर वर्ष होता है| परंतु इससे इस उत्सव की महिमा कम नहीं हो जाती अपितु हम सबके लिए यह समझने की जरूरत है की गणपति हम सबको क्या संदेश दे रहे हैं कि किस प्रकार हम इस वर्ष यह उत्सव मनाए|

प्रथम दिवस (22 अगस्त) – “जय गणेश जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेवा”
आज के दिन एक सुपारी के रूप में मुझे मेरी कल्पना कर विराजित करें या फिर मूर्ति रूप में मेरी पूजा आरती श्रद्धा भाव से करें| विशेष ध्यान रखें कि आप इस पूजा अर्चना में अपने माता पिता को साथ रखें (यदि आप किसी अन्य शहर में हैं तो उनका आशीर्वाद लें)| मैंने अपने माता पिता को अपना पूरा संसार माना और मुझे इस पद की प्राप्ति हुई| उसी प्रकार आप अपने माता पिता को अपना भगवान मानते हुए यदि कोई मनमुटाव है तो उसे भी बुलाते हुए इस 10 दिवसीय कार्यक्रम को उनके साथ मिलकर श्रद्धा पूर्वक मनाएं|

द्वितीय दिवस (23 अगस्त)- “अंधन को आंख देत”
आज के दिन जिस प्रकार भी आप अंध आश्रम में सामर्थ्य अनुसार अपनी सहायता पहुंचा सकें वह कार्य अवश्य करें और उन अंध-विकलांग लोगों के गणपति बनें|

तृतीय दिवस (24 अगस्त) – “अंधन को आंख देत”
आज मरणोपरांत नेत्रदान का संकल्प लें और नेत्रदान का फॉर्म भर कर किसी के जीवन का गणेश बने| इसके अतिरिक्त नेत्रदान के लिए अन्य लोगों को प्रेरित करें, यही मेरी सबसे बड़ी पूजा होगी|

चतुर्थ दिवस (25 अगस्त) – “कोडियन को काया”
इस दिन आप प्रयत्न करें कुष्ठ आश्रमों में अपनी सहायता पहुंचाने का और अधिकाधिक लोगों को इस शुभ एवं उदार कार्य के लिए प्रेरित करने का |

पंचम दिवस (26 अगस्त)- “बांझन को पुत्र देत”
आज जबकि विज्ञान इतनी उन्नति कर चुका है कि हम आईवीएफ के द्वारा महिलाओं की प्रजनन क्षमता को विकसित करने की योग्यता रखते हैं, जरूरत है तो जरूरतमंद लोगों में इसके लिए जागरूकता लाने की और वही दायित्व उठाना आज आपके द्वारा मेरी पूजा होगी|

षष्टम दिवस (27 अगस्त)- “निर्धन को माया”
किसी निर्धन के लिए सबसे बड़ा धन शिक्षा है जो उसे गरीबी के कुचक्र से बहार निकल सकता है| आइए आज हम प्रण लें कि कम से कम एक निर्धन की शिक्षा का जिम्मा हम अपने कन्धों पर लेंगे और जितना अधिक अपने सामर्थ्य के अनुसार कर सके वह करेंगे|

सप्तम दिवस (28 अगस्त)- “निर्धन को माया”
आज हमें एक और प्रतिज्ञा लेनी है कि हम कम से कम एक निर्धन व्यक्ति के रोजगार या व्यवसाय का सहारा बनने की कोशिश करेंगे और दिशा निर्देशन करेंगे।

अष्टम दिवस (29 अगस्त) – “विघ्न हरो देवा”
आज के दिन मैं चाहता हूं आप समर्पित करें जल संचयन के नाम| जल ही जीवन है| हम अपने घर में,आस-पड़ोस में, सोसाइटी में, कॉलोनी में और जहां भी हो सके जल संचयन का अभियान शुरू करें और इस प्रकृति के विघ्नहर्ता बने|

नवम दिवस (30 अगस्त)- “विघ्न हरो देवा”
वृक्षारोपण आने वाले वक्त की सबसे बड़ी जरूरतों में से एक है| क्या हम इस मुहिम का हिस्सा बनकर इस संसार के विघ्नहर्ता की भूमिका निर्वाह कर सकते हैं|

दशम दिवस (31 अगस्त)- “दीनन की लाज रखो शम्भू पुत्र सँवारी, मनोरथ को पूरा करो जाऊं बलिहारी”
आज विसर्जन का दिन है और इस समारोह का अंतिम दिवस है| आप मुझे विसर्जित जरूर करेंगे पर पिछले 9 दिन में किए गए सभी कामों से मुझे इस संसार के विभिन्न क्षेत्रों में, लोगों में और अपने दिल में सदा सदा के लिए स्थापित कर लेंगे| आज के दिन मैं चाहता हूं कि आप यह वचन लें की ऊपर किए गए सभी कामों में से कम से कम एक प्रण को / एक काम को आप अपने साथ पूरे वर्ष निभाते चलेंगे|

कितनी सार्थक लगती हैं ईश्वर के मुख से निकली ये पंक्तियाँ –
तू करता है जो तू चाहता है पर होता है जो में चाहता हूँ, तू कर वो जो में चाहता हूँ और होगा वो जो तू चाहता है|
जय गणपति देवा

आइये, इस प्रकार गणपति के इस पर्व पर, हम कृष्णा गुरूजी के सानिध्य में, गणेश जी की आरती को चरितार्थ करें| कृष्णा गुरुजी का कहना है की कलियुग में कभी गणेश जी ने धरती पर आ कर किसी को आंखे नही दी। पर अपनी आरती के माध्यम से वो आपको संदेश दे रहे है कि किसी के जीवन के गणपति आप किस प्रकार बने| इस पर्व के अवसर पर गुरूजी के मार्गदर्शन में प्रतिदिन विषय चर्चा के साथ ध्यान भी होगा और होगी गणपति आरती हर रोज़ एक अलग देश में| कार्क्रम में जुड़ने के लिए ज़ूम लिंक –

https://us02web.zoom.us/j/9826070286

प्रतिदिन 8:30 pm (IST)

(‘कृष्णा गुरूजी’ youtube चैनल और फेसबुक पर लाइव)

सविनय निवेदन – कृष्णा गुरूजी सोशल वेलफेयर सोसाइटी

Ganpati Bappa Moriya

This year due to the Covid19 pandemic, the Ganapati festival may not be celebrated as it is done every year. But due to this, the glory of this festival does not diminish, and we all need to understand what message Ganapati wants to give us on how should we celebrate this year.

First Day (22 August) – “Jai Ganesh Jai Ganesh Deva Mata Jaki Parvati Pita Mahadeva”
Today, please worship me symbolically in a betel nut or in idol form with aarti. Take special care that your parents are with you in this pooja (if you are in any other city, take their blessings). I considered my parents my whole world and I achieved this position. In the same way, if you consider your parents to be your God, forget all misunderstandings, if any, and celebrate this 10-day program with them with reverence.

Second Day (23 August) – “Andhan ko aankh det”
On this day, help the blind / blind ashrams to the best of your capability, and become the Ganapati for those blind people.

Third Day (24 August) – ” Andhan ko aankh det”
Today, resolve to donate eyes and sign up for eye donation to become Ganesha, bringing light into someone’s darkness. Inspire others for eye donation, which will be my highest worship.

Fourth Day (25 August) – “Kodian ko kaya”
On this day, you should try to extend your help in leprosy ashrams and to motivate more and more people for this auspicious and generous work.

Fifth Day (26 August) – “Banjhan ko putra det”
Nowadays, when science has advanced so much that couples can overcome infertility issues through IVF, there is a need to create awareness among the needy. If you take this responsibility on you which will bring more happiness to this world, that’s going to be your way of paying obeisance on this day.

Sixth Day (27 August) – “Nirdhan ko maya”
The biggest wealth for the poor is education, which can bring them out of the vicious cycle of poverty. Let us vow today that we will take the responsibility on our shoulders to educate at least one poor and will do as much as we can according to our ability.

Seventh Day (August 28) – ” Nirdhan ko maya”
Today we have to take another pledge that we will try to arrange employment for at least one poor person or will guide for the same. This Nar-Sewa will be your Narayan-Sewa.

Eighth Day (29 August) – “Vighn Haro Deva”
Today I want you to dedicate your service for me towards water harvesting. Water is life. We should start a campaign of water harvesting in our home, in the neighborhood, in the society, colony and wherever possible, and become the saviour of Mother nature.

Ninth Day (30th August) – “Vighn Haro Deva”
Tree plantation is one of the biggest needs in times to come. Can we, by being part of this campaign, play the role of the rescuer of this world?

Tenth Day (31 August) – “Dinan ki laj rakho sambhu putra sawari, manorath ko poora karo jaoo balihaari”
Tomorrow is the day of immersion and today is the last day of this celebration. Though you would immerse my symbolic idol, with all the work you have done in the last 9 days, I will always remain in your heart and the hearts of the people you have impacted. On this day, I want you to make a promise that at least one of the above tasks you will carry on throughout the year.


How meaningful do these lines appear from God – You do what you want but it happens the way I want, you do what I want and it will happen the way you want. Jai Ganpati Deva

Let’s come together and join hands on this festival of Ganapati; let us make Ganesh Aarti even more consequential under Krishna Guruji’s guidance. Krishna Guruji says that in KaliYug, Ganesha does not come to Earth and give eyes to anyone. But through His aarti, He is sending you a message that how can you become the Ganpati of someone’s life. On this occasion, under the guidance of Guruji, there will also be a meditation session along with daily subject discussion. We will also go to a different country every day for online Ganapati Aarti. Zoom link to join the program –

https://us02web.zoom.us/j/9826070286

Everyday at 8:30pm (IST)
(Live on ‘Krishna Guruji’ youtube channel and facebook)

Best regards – Krishna Guruji Social Welfare Society

International Yoga Day (21 June 2020)

आमंत्रण - अंतरराष्ट्रीय योग दिवस - 21 जून 2020

अंतर्राष्ट्रीय डिवाइन एस्ट्रो हीलर कृष्णागुरुजी के सानिध्य में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष पर किन्नर समुदाय के लिए एक विशेष ऑनलाइन पैन इंडिया योगा सेशन रखा गया है। किन्नर समुदाय, जो समाज को एक विशेष आशीर्वाद देने का अधिकार जन्म से साथ लाया है, को योग के द्वारा समाज की मुख्य धारा में जोड़ने के संकल्प के साथ हम सभी किन्नर समुदाय के लोगों से एवम उनके लिए कार्य करने वाले समाज सेवियों से निवेदन करते हैं कि कृपया अधिक से अधिक संख्या में इस ऑनलाइन सेशन में भाग लेकर इस विश्व योग दिवस पर योग का लाभ लें। हम सब सूर्य ग्रहण एवं योग दिवस कि युति के इस दिन सभी किन्नरों से आशीर्वाद कि अपेक्षा रखते हुए कोरोना महामारी से मुक्ति के लिए सामूहिक योग प्रार्थना भी करेंगें। 

दिनांक 21जून 2020,  समय 9 बजे प्रातः

Online link – https://us02web.zoom.us/j/9826070286
अधिक जानकारी एवम अपनी संख्या और शहर बताने के लिए व्हाट्सएप्प करे –9826070286

Various News Link (International Yoga Day 2020)

DIVINE ATRO HEALING

Date: Sat, 19 September, 8:30 am & Sun, 20 September, 8:30 am Click below link to register for “डिवाइन एस्ट्रो हीलिंग-करे मजबूत अपने ग्रहो को

Read More »

DIVINE VASTU HEALING

Date: Sat, 22 August, 8:30 am & Sun, 23 August, 8:30 am Click below link to register for ‘Divine Vastu Healing’. https://www.eventbrite.com.au/e/divine-vastu-healing-tickets-116389154093

Read More »

HEAL YOUR PLANET-DIVINE ASTRO HEALING

Date: Sat, 29 August, 8:31 am & Sun, 30 August, 8:31 am Click below link to register for ‘Heal your Planet_Divine Astro Healing’. https://www.eventbrite.com.au/e/heal-your-planet-divine-astro-healing-tickets-117311085615

Read More »

DIVINE VASTU HEALING

Click below link to register for “DIVINE VASTU HEALING” Date: Sat, May 02, 2020, 11:00 AM to 01:00 PM- Sun, May 03, 2020, 11:00 AM

Read More »